• किसान, सबसे बड़े चित्रफलक का जादुई रंगरेज़ जो अपने समर्पण के खून रंग से
    धरती को धानी रंग देता है.।
  • "किसानों का स्थान पहला है चाहे वे भूमिहीन मजदूर हों या मेहनत करनेवाले जमीन मालिक हों।
    उनके परिश्रम से ही पृथ्वी फलप्रसू और समृद्ध हुई है। मुझे इसमें सन्देह नहीं कि यदि हमें लोकतान्त्रिक स्वराज्य हासिल होता है
    — और यदि हमने अपनी स्वतन्त्रता अहिंसा से पाई तो जरूर ऐसा ही होगा — तो उसमें किसानों के पास राजनीतिक सत्ता के साथ हर
    किस्म की सत्ता होनी चाहिए। किसानों को उनकी योग्य स्थिति मिलनी ही चाहिए और देश में उनकी आवाज ही सबसे ऊपर होनी चाहिए।"
    — महात्मा गाँधी
  • स्वराज्य के बाद भी गांधी जी के सपनों के भारत में किसान अपने अस्तित्व के लिए संघर्षरत है।
    प्रणाम किसान एक कोशिश है, गांधी जी के भरोसे को सच करने की,
    प्रणाम किसान एक वादा है किसान स्वराज का,
    प्रणाम किसान एक परिवर्तन है सत्ता से शक्ति का,
    प्रणाम किसान एक ध्येय है भूमिपुत्र की समृद्धि का,
    प्रणाम किसान कटिबद्ध है सेहतमंद, प्रदूषणमुक्त विश्व के लिए
  • सत्ता- शोषण, मृत्यु ओर घर्षण,
    चाहे जितनी नाकेबंदी कर ले,
    मै भूमिपुत्र नही मानता,
    कभी भी हार हूँ ....

    बंजर मै फूल खिलाता हूँ
    बीजों को दरखत बनाता हूँ
    हर प्राणी के भीतर बहती,
    जीवन की रस- धार हूँ .....

    सब तहज़ीबें, सारी कोमे,
    मेने रखी हिफाज़त से
    एक-एक बीज को पाला है,
    प्यार से, नफाज़त से हर
    काल की उन्नति का अाधार हूँ ...

Welcome to Pranam Kisan – A Salute to The Farmers

Mahatma Gandhi said, “Agriculture is the backbone of Indian Economy” but it is also the largest unorganized sector with 57% of India’s total population and 73% of India’s total employment. Pranam Kisan envisions bringing a little organisation to this large sector and create a sustainable food system.


प्रतीक्षित (Awaited) – परीक्षित (Tested) – प्रमाणित(Proved)

An opportunity to rise high for everyone. An initiative to improve the lives of Farmers across India. Always betrayed by the weather and our indifference, Farmers and their families are struggling and fighting against the odds every day. But now, together, we can turn things around for them and for our future by joining Project Pranam Kisan. So join PK in helping the Farmers do what we do best, with our heads held high.


Latest News

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipisi cing elit. Molestias eius illum libero dolor nobis deleniti, sint assumenda. Pariatur iste veritatis excepturi, ipsa optio nobis

Read more

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipisi cing elit. Molestias eius illum libero dolor nobis deleniti, sint assumenda. Pariatur iste veritatis excepturi, ipsa optio nobis

Read more

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipisi cing elit. Molestias eius illum libero dolor nobis deleniti, sint assumenda. Pariatur iste veritatis excepturi, ipsa optio nobis

Read more